Inter Exam 2024 History ( कक्षा 12 इतिहास लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर 2024 ) PART – 2

Inter Exam 2024 :- कक्षा 12 इतिहास का दूसरा चैप्टर मौर्य काल से गुप्त काल तक का राजनीतिक एवं आर्थिक इतिहासलघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर   का लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर इस पोस्ट पर दिया गया है। Inter Exam 2024 अगर आप कक्षा बारहवीं के तैयारी कर रहे हैं, और साथ ही साथ इतिहास का मौर्य काल से गुप्त काल तक का राजनीतिक एवं आर्थिक इतिहास ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर को अभी तक नहीं पढ़े हैं, तो यहां पर कक्षा 12 इतिहास के दूसरा चैप्टर का ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर का लिंक नीचे दिया गया है। जिससे पढ़कर आप अपनी तैयारी को बेहतर कर सकते हैं। Inter Exam 2024

इतिहास ( लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर ) PART – 2

मौर्य काल से गुप्त काल तक का राजनीतिक एवं आर्थिक इतिहास लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर

[ 1 ] मौर्यकालीन स्तंभों पर एक लघु लेख लिखिए।

Ans :-  मौर्य काल की सर्वश्रेष्ठ कला कीर्ति स्तंभ हो तथा उनके सिर पर पशु आकृतियों का निर्माण होता है। इन स्तंभों का निर्माण अशोक द्वारा कराया गया था इन पर उसकी धम्म लिपि अंकित है। इन्हें साम्राज्य के विभिन्न भागों में मुख्य मार्गों पर अवस्थित किया गया था। इनमें से जो स्तंभ आज दिल्ली, प्रयाग, लोरिया, अरेराज ,लौरिया, नंदनगढ़ तथा रामपुरवा में है। उन पर अशोक के प्रमुख लेखक अंकित है। लुंबिनी सांची सारनाथ कौशांबी इत्यादि स्थानों पर प्राप्त स्तंभों पर उसके लघु लेख प्राप्त होते थे। स्तंभ का निर्माण उच्च कोटि के अभियांत्रिकी कला को प्रदर्शित करता है। पहाड़ों से विशाल खंड को काटा गया है। और संपूर्ण सतह को अत्यंत बारीकी और परिशुद्धता के साथ तराशा गया है। एक पाषाण खंड से 40 फीट स्तंभ को शुद्धता के साथ तराशना निश्चित ही आश्चर्यजनक होता है। और मौर्य कलाकार के अभियांत्रिकी ज्ञान की पूर्णता का सर्वोत्तम उदाहरण प्रतीत होता है।


[ 2 ]  मौर्य कालीन इतिहास के चार अभिलेखिये स्रोतों को लिखें।

Ans :-  मौर्य कालीन इतिहास के चार अभिलेखिये स्रोत निम्नलिखित है-

(i) 14 वृहत शिलालेख जो कल से शाहबाजगढ़ी इत्यादि से मिले हैं।
(ii) मास्की गुर्जरा से प्राप्त लघु शिलालेख।
(iii) गिरनार से प्राप्त लघु शिलालेख
(iv) लौरिया अरेराज से प्राप्त स्तंभ अभिलेख


[ 3 ] समुद्रगुप्त के विजयों के विषय में लिखें।

Ans :-  समुद्रगुप्त प्राचीन भारत की महानतम शासकों में से एक शासक था। उसने अपने पिता की नीति का अनुसरण करते दिग्विजय की नीति अपनाया उसने सबसे पहले उत्तर भारत को जीता और इस क्षेत्र के सभी नौ राज्य को अपने साम्राज्य में शामिल कर लिया। इसके बाद आटविक राज्य को जीतकर वहां राजा अपना सेवक बनाया। उसके बाद दक्षिण भारत के राजाओं को पराजित किया। और उनके अधीनता स्वीकार करके एवज में उनका राज्य वापस लौटा दिया। वह बड़ा ही दूरदर्शी था और इस बात को अच्छी प्रकार समझता था। कि उन दिनों आवागमन के साधनों के अभाव में राजतंत्र ये व्यवस्था इतने बड़े क्षेत्र पर नियंत्रण बनाए रखना संभव नहीं था। इसलिए उन राज्य के साथ मित्रता पूर्ण संबंध बनाए रखना उचित समझा। इसलिए उससे महान शासक कहा जाता है।


[ 4 ] समुद्रगुप्त पर एक संक्षिप्त परिचय लिखें।

Ans :-  गुप्त शासक चंद्रगुप्त प्रथम का उत्तराधिकारी उसका पुत्र समुद्रगुप्त था। भारतीय इतिहास में समुद्रगुप्त आस्था एक महान विजेता तथा प्रतिभाशाली सम्राट के रूप में स्वीकार किया गया है। उसने अपनी विजयों के द्वारा भारत को राजनीति एकता के सूत्र में बांधा। समुद्रगुप्त एक महान विजेता ही नहीं बल्कि कुशल संगठन करता तथा कला और संस्कृति का प्रेरक भी था। प्रयाग प्रशस्ति में उसे “सर्वराजोच्छेता” अर्थात समस्त राजाओं का उन्मूलन करने वाला के साथ-साथ उसे ज्ञान मर्मज्ञ भी कहा गया है।


इंटरमीडिएट परीक्षा 2024 इतिहास लघु प्रश्न उत्तर 2024 Inter Exam 2024

[ 5 ] समुद्रगुप्त की नेपोलियन से तुलना क्यों की जाती है ? दो कारणों को लिखे।

Ans :-  समुद्रगुप्त की नेपोलियन से तुलना की जाती है इसके दो कारण निम्नलिखित हैं।

(i) बिजयी अभियानों के कारण – समुद्रगुप्त नेपोलियन के सामान कई विजई अभियान किए हैं आर्यावर्त दक्षिणा पाठ इत्यादि क्षेत्रों पर विजय पायी थी।
(ii) साम्राज्य की सुदृढता के कारण – जिस प्रकार नेपोलियन के समय फ्रांस यूरोप का सर्वाधिक शक्तिशाली राज्य था। उसी प्रकार समुद्रगुप्त के समय गुप्त वंश को चुनौती देने वाला कोई नहीं था।


[ 6 ] मौर्यकालीन कला एवं स्थापत्य का वर्णन करें।

Ans :-  मौर्यकालीन कला एवं स्थापत्य का सर्वश्रेष्ठ नमूना इस समय के स्तम्भ एवं यक्षिणी की मूर्ति है। सांची, सारनाथ इत्यादि जगहों पर मौर्य कालीन स्तूप मिले हैं। इस समय मूर्ति निर्माण में गांधार एवं मथुरा शैली का विकास हुआ अशोक द्वारा 84000 बौद्ध स्तूप तथा विहार निर्माण करवाया गया था। इस काल में पर्वतों को काटकर गुहा ग्रहों का भी निर्माण हुआ बराबर की पहाड़ियों एवं नागार्जुनी पहाड़ियों आज भी प्रचलित है।


[ 7 ]  कलिंग युद्ध का अशोक पर क्या प्रभाव पड़ा ?

Ans :-  कलिंग युद्ध का अशोक पर निम्नलिखित प्रभाव पड़ा जो इस प्रकार है।

(i) अशोक ने साम्राज्य विस्तार की नीति का परित्याग कर दिया।
(ii) इसने अहिंसा, सत्य, प्रेम, दान, परोपकार इत्यादि का रास्ता अपनाया।
(iii) अशोक बौद्ध धर्म का अनुयाई बन गया।
(iv) बौद्ध धर्म का प्रचार प्रसार पूरे देश के साथ-साथ विदेशों में भी किया।


[ 8 ]  मौर्यकालीन नगर प्रशासन पर प्रकाश डालें।

Ans :-  मेगास्थनीज ने मौर्यकालीन नगर प्रशासन का सबसे विस्तृत एवं विशद वर्णन किया है। उनके अनुसार नगर का शासन प्रबंध 30 सदस्यों की एक समिति के हाथ में था। यह समिति 6 समितियों में विभक्त थे। प्रत्येक समिति में 5 सदस्य होते थे। यह समितियां इस प्रकार थी।

(i) शिल्प कला समिति :- इस समिति के लोग उद्योग धंधों का निरीक्षण एवं प्रबंध करते थे।
(ii) जनगणना समिति :-  यह समिति जन्म मरण का लेखा रखते थे।
(iii) वाणिज्य समिति :-  यह समिति नापतोल का निरीक्षण कर आए विक्रय का निरीक्षण तथा प्रबंध करते थे।
(iv) उद्योग समिति :- यह समिति उत्पादित वस्तुओं की देखभाल करते थे
(v) कर समिति :- यह समिति का प्रमुख कर वसूलना था।
(vi) विदेश यात्रा समिति :- यह समिति विदेशियों के रहने तथा भोजन इत्यादि की व्यवस्था करती थी।


[ 9 ] चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के बारे में आप क्या जानते हैं ?

Ans :-  समुद्रगुप्त के बाद उसका पुत्र चंद्रगुप्त द्वितीय सिहासन पर बैठा। उसने विक्रमादित्य की उपाधि धारण की। वह एक बहुत बड़ा विजेता था। उसने गुप्त साम्राज्य को सुदृढ़ बनाया और उसमें मालवा, गुजरात और काठियावाड़ शामिल किए उसने अपनी बेटी प्रभावती का विवाह वाकाटक वंश के शासक रूद्र सेन द्वितीय के साथ किया। इस वैवाहिक संबंध से चंद्रगुप्त को अपने समस्त सेना को शकों के विरुद्ध इकट्ठे करने का अवसर मिल गया। प्रभावती वाकाटक राज्य की एक बहुत प्रभावशाली महारानी थे। चंद्रगुप्त द्वितीय कई नए प्रकार के सिक्के जारी किए। उसने सोने के सिक्कों से उसकी शक्ति व्यक्तित्व और स्थिति का पता चलता है।


history class 12th question and answer pdf download 2024

[ 10 ] मेगास्थनीज के बारे में क्या जानते हैं ?

Ans :-  मेगास्थनीज चंद्रगुप्त मौर्य के दरबार में यूनानी राजदूत था। उसे सेल्यूकस ने अपना राजदूत बनाकर चंद्रगुप्त मौर्य के दरबार में भेजा गया था। मेगास्थनीज ने भारत में जो कुछ देखा उसे “इंडिका” नामक पुस्तक में लिखा वध किया था। उसने भारत का जो विवरण प्रस्तुत किया है। उसमें उसने भौगोलिक, पर्यावरण, भारतीयों के सामाजिक जीवन, उनकी धार्मिक, आस्थाओं राजनीतिक तथा प्रशासन के बारे में लिखा है।


[ 11 ] गुप्त काल में सती प्रथा पर संक्षिप्त लेख लिखिए।

Ans :- गुप्त काल में सती प्रथा के उल्लेख मिलता है। ऐरेन शिलालेख 510 ई ] में उल्लेख है। की गोप राज नामक सेनापति की पत्नी युद्ध में अपने पति की मृत्यु के बाद सती हो गई थी। हर्ष की माता यशोमती अपने पति के संभावित मृत्यु मात्र पर ही 604 ई ] में सती हो गई थी गुप्त काल के पहले महाभारत में सती प्रथा का उल्लेख प्राप्त होता है। पांडु की मृत्यु के बाद उसकी पत्नी माद्री उसके साथ सती हो गई थी। कृष्ण की मृत्यु के बाद उसकी पत्नियां भी उसके साथ सती हो गई थी। महाभारत के आदि पर्व में सती प्रथा का समर्थन किया है। फिर भी यह कहा जाएगा, कि सती प्रथा आम नहीं था अपवाद स्वरूप था।


[ 12 ] गुप्तकालीन कला की मुख्य विशेषताओं का उल्लेख करें ?

Ans :-  गुप्तकालीन कलाओं में मूर्तिकला चित्रकला का महत्वपूर्ण स्थान है –

मूर्तिकला :- गुप्तकालीन मूर्तियां बौद्ध धर्म से संबंधित वस्तुओं और पुराणों में दी गई घटनाओं को दर्शाती है। मथुरा और सारनाथ में पत्थरों और काशी की बुध तथा बौद्ध स्तंभों की मूर्तियां बहुत संख्या में पाई गई है। इस काल की सबसे प्रसिद्ध मूर्ति हुआ है। जिसमें बुध बैठे मुद्रा में अपना प्रथम प्रवचन दे रहे हैं इस मूर्ति को भारत में सबसे दुर्लभ मूर्ति माना जाता है।
चित्रकला :- चित्रकला भी गुप्त काल में अपने प्रगति के शिखर पर थे। इस कला का व्यवहार राजमहल और हिंदू तथा बहुत मंदिरों को सजाने के लिए किया जाता था। इस कला के सबसे सुंदर उदाहरण अजंता की गुफाएं श्रीलंका में सुग्रीया और मध्यप्रदेश में बाघ की गुफाएं हैं।


[ 13 ] किन्ही दो गुप्तकालीन मंदिरों के नाम एवं स्थान को लिखें।

Ans :- गुप्तकालीन दो मंदिरों के नाम एवं स्थान निम्नलिखित है-

(i) देवगढ़ के दशावतार मंदिर :- यह वैष्णव धर्म से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण मंदिर है।
(ii) भूमरा का शिव मंदिर :- यह सब धर्म से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण मंदिर है।


[ 14 ] कनिष्क  के उपलब्धियों पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

Ans :- कनिष्क कुशान वंश का सबसे महानतम शासक था। जो 78 ईसवी में सम्राट बना एवं 101 ईसवी तक शासन किया। कनिष्क के सम्राट बढ़ने की तिथि से ही उपलब्धियों का दौर शुरू हो जाता है। शक संवत की शुरुआत उसके गद्दी पर बैठने की तिथि 78 ई  से ही मानी जाती है कनिष्क भारत का पहला शासक था
जिसने चीन पर आक्रमण करके उसके आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्र सिल्क रूट पर कब्जा किया था। कनिष्क बौद्ध धर्म का अनुयाई था। उसने अशोक की तरह ही एशिया एवं चीन में बौद्ध धर्म का प्रसार करवाया कनिष्क के संरक्षण में ही कश्मीर के कुंडल वन विहार में चतुर्थ बौद्ध संगीति का आयोजन किया गया था।


class 12th Bihar board history question and answer pdf download

[ 15 ] सातवाहन राज्य के बारे में टिप्पणी लिखें।

Ans :-  लगभग 60 ईसवी पूर्व में सातवाहन राज्य की नींव सिमुक ने रखी थी यह गोदावरी तथा  कृष्णा नदी के बीच का क्षेत्र था। जिसको अब आंध्र कहा जाता है। सातकर्णि प्रथम सातवाहन वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था। उसे असोमैक्स याद किया और पूरे दक्कन पर अपनी प्रभुसत्ता की घोषणा की। इस वंश का एक और प्रसिद्ध राजा गौतमीपुत्र सातकर्णि थी। जिसने दूसरी शताब्दी के आरंभिक काल में शासन किया। सातवाहन शासक अपने आपको ब्राह्मण कहते थे और विष्णुमत के अनुयाई थे। वह ब्राह्मणों को खुले दिल से दान देते थे। उन्होंने बौद्ध मत को भी संरक्षण दिया अमरावती के स्तूप तथा कार्ले के चैत्य इसी काल में बनवाए गए साहित्य दृष्टि से इस काल में प्राकृत भाषा का उदय हुआ इस काल के सभी अभिलेख प्राकृत भाषा में है।


[ 16 ] महरौली अभिलेख पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

Ans :-  महरौली अभिलेख में चंद्रगुप्त द्वितीय के विजयों का उल्लेख किया गया है। यह स्तंभ के महरौली नामक स्थान में क़ुतुब मीनार के समीप स्थित है इस स्तंभ पर एक लेख उत्कीर्ण है। जिसमें 6 पंक्तियां हैं। इसमें चंद्र नामक राजा की विजयों का उल्लेख है। इस लेख में कहा गया है, कि उसने अपनी भुजाओं के बल पर अधिराज्य की स्थापना की थी। उसका शासन दीर्घकालीन था। वांग युद्ध में उसने सम्मिलित रूपों से आए शत्रुओं को भगा दिया था। युद्ध में सिंधु नदी के सात मुखो को पार कर उसने वाहिलीको को पराजित किया उसके सांवरे से आज भी दक्षिणी समुद्र गंधायमान है जिस समय अभिलेख उत्कीर्ण कराया गया। उस समय उस राजा की मृत्यु हो चुकी थी। वह राजा वैष्णव धर्म का अनुयाई था। उसने विष्णुपद पर्वत पर विष्णु भगवान का ध्वज स्थापित कराया। महरौली स्तंभ अभिलेख में जिस चंद्र नामक राजा का उल्लेख किया गया है वह गुप्ता कालीन महान सम्राट चंद्रगुप्त विक्रमादित्य था।


[ 17 ] सुदर्शन झील पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

Ans :-  सुदर्शन झील प्राचीन भारतीय इतिहास की इंजीनियरिंग की महान उपलब्धि है। इस झील में सिंचाई के लिए पानी कट्ठा किया जाता था यह झील गुजरात में गिरनार के स्थान पर बनाई गई। इस झील को चंद्रगुप्त मौर्य के शासनकाल में बनाया गया था। इस जिले में पहाड़ी नदी का पानी इकट्ठा किया जाता था। जूनागढ़ शिलालेख में लिखा है, कि सम्राट स्कंद गुप्त के शासनकाल में अधिक वर्षा होने के कारण यह झील का बांध टूट गया, तो गिरनार के राज्यपाल ने इस बांध की मरम्मत करवाई उसके कार्य को बहुत से कवियों ने गुणगान किया है।


[ 18 ] चंद्रगुप्त द्वितीय विक्रमादित्य की उपलब्धियों का वर्णन करें।

Ans :-  समुद्रगुप्त के बाद उसका पुत्र चंद्रगुप्त द्वितीय सिंहासन पर बैठा। उसने विक्रमादित्य की उपाधि धारण किया। वह एक बहुत बड़ा विजेता था। उसने गुप्त साम्राज्य को सुदृढ़ बनाया और उसमें मालवा गुजरात और काठियावाड़ शामिल किए उसने अपनी बेटी प्रभावती गुप्त का विवाह मध्य दक्कन के वाकाटक वंश के शासक रूद्र सेन द्वितीय के साथ किया। इस वैवाहिक संबंध से चंद्रगुप्त को अपने समस्त सेना को सिखों के विरोध इकट्ठे करने का अवसर मिल गया। प्रभावती वाकाटक राज्य की प्रभावशाली महारानी थी। चंद्रगुप्त कई प्रकार के नए सिक्के जारी किए उसके शासनकाल में कला साहित्य और विज्ञान का अभूतपूर्व विकास हुआ। कला सहित की प्रगति को देखते हुए इतिहासकारों ने उसके काल को स्वर्ण काल कहा है।


[ 19 ] महाजनपद से आप क्या समझते हैं

Ans :-  वैदिक काल में जिन क्षेत्रीय राज्यों के उदय की प्रक्रिया आरंभ हुई थी वह छठी सदी ईसा पूर्व तक आते-आते बड़े राज्यों में बदल गई इन्हीं प्रभुता संपन्न राज्य को महाजनपद कहा गया है बौद्ध ग्रंथ अंग उत्तर निकाय के अनुसार 16 महाजनपद थे काशी, कौशल,अंग, मगध, वज्जि , मल्ल ,चेदि , वत्स, कुरु , पांचाल, मत्स्य, शूरसेन, अस्मक , अवंती, गांधार, कंबोज इन महाजनपदों में वज्जि और मल्ल गणराज्य थे और शेष में राजतंत्र मक प्रणाली प्रचलित थी यह महाजनपदों में सबसे शक्तिशाली मगध था


Inter Exam 2024 History कक्षा 12 इतिहास लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर 2024

[ 20 ] कौटिल्य के अर्थशास्त्र पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

Ans :-  अर्थशास्त्र नामक सुप्रसिद्ध ग्रंथ की रचना चाणक्य ने की थी जिन्हें की कौटिल्य अथवा विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता है। इस प्रसिद्ध ग्रंथ में 15 खंड, 150 अध्याय, 180 उपविभाग तथा 6000 अश्लोक हैं। इस सुप्रसिद्ध ग्रंथ की रचना ने यह सिद्ध कर दिया है, कि भारतीय विद्वान शुरू से ही ना केवल आध्यात्मिक प्रश्नों पर विचार करते आए हैं। बल्कि उन्होंने भौतिक विषयों पर भी विचार किया है। इस ग्रंथ का महत्व प्लेटो और अरस्तू की महान कृतियों से कम नहीं है। विद्वानों ने इस ग्रंथ की तुलना मैकियावेली के ग्रंथ दी प्रिंस से की है कौटिल्य को भारत का मैकियावेली भी कहा जाता है।


[ 21 ] मगध साम्राज्य पर टिप्पणी लिखिए

Ans :-  मगध एक बहुत प्राचीन तथा शक्तिशाली महाजनपद था। इसमें दक्षिण बिहार के वर्तमान पटना तथा गया। जिले सम्मिलित थे छठी तथा चौथी शताब्दी ईसा पूर्व के बीच के काल में यह महाजनपद बहुत शक्तिशाली बन गया। इस राज्य की स्थिति अधिक दृढ़ होने की विशेष कारण थे। इसकी प्राचीन राजधानी राजगृह थी। राजगीर के इर्द-गिर्द पहाड़िया थे। जो उसके प्राकृतिक रूप से रक्षा करते थे यहां की भूमि बहुत उपजाऊ थी। गंगा और सोन नदियों में नौकाओं द्वारा यातायात की सुविधा भी मगध की समृद्धि का कारण थीजिसके कारण व्यापार में वृद्धि हुई। इसके अतिरिक्त यहां लोहे की खाने भी स्थिति थी। जहां से कृषि यंत्र तथा हथियार बनाने के लिए लोहा साने से मिल जाता था। परंतु प्राचीन बौद्ध तथा जैन विद्वानों ने इस महाजनपद की शक्तियों का कारण कुछ लोगों के व्यक्तिगत गुण बताए थे। बिंबिसार अजातशत्रु महापद्मनंद कुछ ऐसे ही व्यक्तियों के नाम हैं। जिन्होंने अपने मंत्रियों के सहयोग से साम्राज्यवादी नीति को लागू किया।


[ 22 ] अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए क्या कार्य किए ?

Ans :-  कलिंग युद्ध के उपरांत अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार प्रसार करने के लिए तन मन धन से कार्य किया अशोक ने महात्मा बुध से संबंधित तीर्थ स्थानों लुंबिनी कपिलवस्तु गया कुशीनगर तथा श्रावस्ती की यात्राएं की और जिन सिद्धांतों का प्रचार किया ।उनका पालन स्वयं भी किया। अशोक ने बौद्ध धर्म के नियमों को सिलाओ स्तंभों गुफाओं पर खुदवाया। उसने अनेक स्तूप बनवाएं उसने बौद्ध भिक्षुओं को आर्थिक सहायता दी। बौद्ध धर्म के आंतरिक फूट को दूर करने के लिए पाटलिपुत्र में बौद्धों की तीसरी संगीति का आयोजन भी किया। बौद्ध धर्म के प्रचार हेतु प्रचार को को भारत के विभिन्न भागों के साथ-साथ विदेशों में भी भेजा लंका में अशोक अपने पुत्र महेंद्र और पुत्री संघमित्रा को भेजा इस प्रकार अशोक बौद्ध धर्म को विश्व धर्म बना दिया।


बिहार बोर्ड कक्षा 12 इतिहास का ऑब्जेक्टिव क्वेश्चन आंसर 2024 Inter Exam 2024

 1.Hindi 100 Marks ( हिंदी )
 2.English 100 Marks ( अंग्रेज़ी )
 3.PHYSICS ( भौतिक विज्ञान )
 4.CHEMISTRY ( रसायन विज्ञान )
 5.BIOLOGY ( जीवविज्ञान )
 6.MATHEMATICS ( गणित )
 7.GEOGRAPHY ( भूगोल )
 8.HISTORY ( इतिहास )
 9.ECONOMICS ( अर्थशास्त्र )
 10.HOME SCIENCE ( गृह विज्ञान )
 11.SANSKRIT ( संस्कृत )
 12.SOCIOLOGY ( समाज शास्‍त्र )
 13.POLITICAL SCIENCE ( राजनीति विज्ञान )
 14.PHILOSOPHY ( दर्शन शास्‍त्र )
15.PSYCHOLOGY ( मनोविज्ञान )
You might also like