Bihar Board Class 10th Biology Jaiv Prakram ( जैव प्रक्रम ) Subjective Question 2024 ||Matric Board Exam 2024

[ Class 10th Science Objective & Subjective Question Answer 2024 ] :- यहां पर आप सभी छात्र छात्राओं के लिए बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2024 के परीक्षा के लिए कक्षा 10 जीव विज्ञान का पहला चैप्टर Part – 2 जैव प्रक्रम लघु उत्तरीय प्रश्न उत्तर तथा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न उत्तर दिया हुआ है जिसे आप पढ़ कर आपने कॉपी में लिख कर इसे याद कर सकते हैं ताकि आपको मैट्रिक बोर्ड परीक्षा 2024 में किसी प्रकार की दिक्कत ना हो इसलिए इन सभी प्रश्नों को जरूर याद करें Bihar Board Class 10 Jaiv Prakram Short Answer Type Questions 2024, Biology Class 10 Jaiv Prakram Short Answer Type Questions 2024


Class 10th Biology Jaiv Prakram ( जैव प्रक्रम ) Subjective Question 2024 

[ 1 ] जैव प्रक्रम किसे कहते हैं ?

Ans ⇒ वैसे सभी क्रियाएं जिसके द्वारा जीवन की रक्षा होती है उसे जैव प्रक्रम कहते हैं। जैसे स्वसन पोषण पाचन इत्यादि।

[ 2 ] पोषण किसे कहते हैं ?

Ans ⇒ जीवन संबंधी क्रियाओं को शिक्षा सुचारू रूप से चलाने के लिए दो आवश्यकताएं होती है।

(i) नियंत्रण ऊर्जा की आपूर्ति तथा शरीर की वृद्धि तथा टूट-फूट कर मरम्मत के लिए जीवन द्रव्य का निर्माण इन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए प्रत्येक जीव को भोजन आवश्यक होती है।
वह विधि जिसके द्वारा जीव पोषक तत्व को ग्रहण करता है। तथा उसका उपयोग करता है। उसे पोषण कहते हैं।

[ 3 ] पोषण कितने प्रकार के होते हैं लिखें।

Ans ⇒पोषण मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं।

(i) स्वपोषण
(ii) परपोषण

[ 4 ] स्वपोषण किसे कहते हैं ?

Ans ⇒ वैसे जीव जो भोजन के लिए किसी दूसरे जीवो पर निर्भर न रहकर अपना भोजन स्वयं तैयार करता है। स्वपोषी कहलाता है जैसे हरे पौधे।

[ 5 ] परपोषण किसे कहते हैं ?

Ans ⇒ वैसे जीव जो अपने भोजन के लिए अन्य स्रोतों पर निर्भर रहते हैं परपोषी कहलाते हैं। जैसे- मनुष्य, जीव

[ 6 ] परपोषण कितने प्रकार के होते हैं लिखें।

Ans ⇒ परपोषण तीन प्रकार के होते हैं।

(i) मृतजीवी पोषण ⇒ इस प्रकार के पोषण में जीव मरे हुए पेड़ पौधे या जंतुओं के शरीर से कार्बनिक पदार्थों का शोषण करते हैं। जैसे -कवक, बैक्ट्रिया इत्यादि।

(ii) परजीवी पोषण ⇒ इस प्रकार के पोषण में जीव दूसरे प्राणी के संपर्क में रहकर अपना भोजन प्राप्त करते हैं। जैसे- कवक, जीवाणु इत्यादि।

(iii) प्राणी समपोषण ⇒  वैसे का पोषण जिसमें जीव को सा तरल पदार्थ के रूप में भोजन के द्वारा पोषक तत्व ग्रहण करते हैं उसे प्राणी समपोषण कहा जाता है।

[ 7 ] प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया कैसे होती है लिखें।

Ans ⇒ जिस प्रक्रिया द्वारा पौधे अपना भोजन तैयार करते हैं। उसे प्रकाश संश्लेषण कहते हैं। सभी हरे पौधे में क्लोरोफिल पाया जाता है। जिसमें सूर्य का प्रकाश का अवशोषण होता है। पौधे सूर्य की ऊर्जा की सहायता से कार्बन डाइऑक्साइड जल की उपस्थिति में अभिक्रिया करके गुलकोज का निर्माण करता है। तथा ऑक्सीजन गैस मुक्त करती है।
6CO2+12H2O —C6H12O6+6CO2+6H2O

[ 8 ] पौधों में भोजन तैयार करने के लिए किन चार पदार्थों की आवश्यकता होती है लिखें।

(i) क्लोरोफिल
(ii) कार्बन डाइऑक्साइड CO2
(iii) जल H2O
(iv) सूर्य का प्रकाश

[ 9 ] मानव पाचन तंत्र के वर्णन करें।

Ans ⇒ मनुष्य में भोजन के पाचन के लिए एक विशेष अंग होता है जो आहार नाल कहलाता है। आहार नाल एवं पाचन क्रिया मिलकर पाचन तंत्र कहलाती है।
यह एक कुंडलीत रचना होती है। जिसकी लंबाई 8 से 10 मीटर होती है यह मुंह से शुरू होकर मलद्वार तक फैला होता है। मुख आहार नाल का पहला भाग है। जिसमें जीव एवं दांत होते हैं। जीभ के ऊपर छोटे-छोटे अंकुर होता है। जिसे स्वाद कलियां कहते हैं। दांत का काम भोजन को काटना और चबाना है। व्यस्क शरीर में 32 दांत होते हैं।

(i) ग्रसनी ⇒ मूंग का पिछला भाग ग्रसनी कहलाता है। इसमें दो छिद्र होता है। निगल द्वार कंठ द्वार ग्रंथि के द्वारा निकले हुए लार से सना हुआ भोजन ग्रास नली में पहुंचता है। तथा ग्रास नली से अमाशय में पहुंचता है।

(ii) आमाशय ⇒ यह एक चौड़ी थैली जैसी रचना होती है। तथा यह पेट के बाएं ओर पाई जाती है। इसमें अमाशय ग्रंथि या जठर ग्रंथि का निर्माण होता है। इसमें जठर रस पाया जाता है। जठर रस में हाइड्रोक्लोरिक अम्ल एवं म्यूकस पाया जाता है। अमाशय में प्रतिदिन लगभग 3 लीटर जठर रस का स्राव होता है।
जब म्यूकस का स्राव घट जाता है। तब अल्सर रोग हो जाता है। जिसके कारण लंबे समय तक बीमार पड़ जाते हैं। अल्सर बहुत देर तक भूखे रहने से होता है। अमाशय में प्रोटीन तथा वसा का पाचन होता है। अब भोजन गाढ़े लेई की तरह हो जाता है। और यह छोटी आंत में पहुंच जाता है।

(iii) छोटी आंत ⇒ छोटी आंत तीन भागों में होता है। ग्रहणी, जेजूनम ,इलियम ग्रहणी छोटी आंत का पहला भाग होता है। जेजूनम मध्य भाग होता है। इलियम छोटी आंत का अंतिम भाग होता है। इसमें ही भोजन का अंतिम रूप से पाचन होता है। तथा भोजन का अवशोषण भी यही होता है। जो लीवर, पित्त तथा आंत ग्रंथि के स्राव से होता है।

(iv) लीवर (यकृत) यह शरीर के सबसे बड़ी ग्रंथ ग्रंथि है। इसका भार लगभग 1 ]5 kg का होता है। यह पेट की दाहिनी तरफ होता है। लीवर में पित्त का स्राव होता है। जो अमाशय में अमलियता को नष्ट करता है। तथा भोजन में वसा के विखंडन कर देता है।

(v) बड़ी ग्रंथि ⇒ छोटी आंत का अगला भाग बड़ी आंत में खुलता है। बड़े आंत दो भागों में बटा होता है। पहला कोलन दूसरा रेक्टम ।
छोटी आंत और बड़ी आंत के जोर पर अंगुली जैसी रचना होती है। जिसे अपेंडिस कहा जाता है। कोलन तीन भागों में विभक्त होता है। जिससे अपच भोजन मल द्वारा शरीर से बाहर आता है।

Read More :- 

Class 10 Biology:- Chapter 1 of Class 10 Biology is an important Subjective Question Answer of Biological Process. Friends, this question is very important. Because this question is always asked in your board exam. So friends, definitely watch it from beginning to end. Class 10 Biology

 S.N Matric Exam 2024 Bihar Board 
1.Class 10th Objective bihar Board
2.Class 10th Social Science
3.Class 10th objective Science
4. Class 10th objective Hindi
5.Class 10th Objective English
6.Class 10th Objective Sanskrit
7.Class 10th Objective Math
You might also like